Friday, March 15, 2019 चीन करेगा वायु प्रदूषण पर केन्द्रित विश्व पर्यावरण दिवस 2019 की मेज़बानी
प्रेस रिलीज़

नैरोबी, 15 मार्च 2019 - आज, चीनी प्रतिनिधिमंडल के प्रमुख, झाओ यिंगमिन, पारिस्थितिकी और पर्यावरण मामलों के उपमंत्री, और संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम के कार्यवाहक प्रमुख जॉइस मसूया द्वारा संयुक्त रूप से घोषणा की गयी कि 5 जून 2019 को वायु प्रदूषण के विषय पर आयोजित किए जाने वाले विश्व पर्यावरण दिवस की मेज़बानी चीन करेगा।

वायु प्रदूषण के कारण दुनिया भर में हर साल लगभग 70 लाख लोगों की समय से पहले ही मृत्‍यु हो जाती है, जिनमें से 40 लाख लोगों की मृत्‍यु केवल एशिया-प्रशांत क्षेत्र में होती है। विश्व पर्यावरण दिवस 2019 सरकारों, उद्योगों, समुदायों और व्यक्तियों से एकजुट होकर अक्षय ऊर्जा और हरित प्रौद्योगिकियों का पता लगाने, तथा विश्‍व भर के शहरों और क्षेत्रों में हवा की गुणवत्ता में सुधार की दिशा में कार्य करने का आह्वान करेगा।

चीन की सरकार विश्व पर्यावरण दिवस का मुख्‍य कार्यक्रम झेजियांग प्रांत के हांगझोऊ शहर में आयोजित करेगी तथा साथ ही साथ अन्य शहरों में भी इससे संबंधित कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा।

जिस समय यह घोषणा की गई है उस समय दुनिया भर के पर्यावरण मंत्री नैरोबी में आयोजित किए गए पर्यावरण से संबंधित दुनिया के सबसे बड़ी फ़ोरम में शामिल थे। 11-15 मार्च को आयोजित होने वाली चौथी यूएन एन्वार्यनमेंट असेम्‍बली में बातचीत के माध्यम से खाद्य अपशिष्टों की रोकथाम और इलेक्ट्रिक कारों को बढ़ावा देने जैसे महत्वपूर्ण मुद्दों को सुलझाने का प्रयास किया जाएगा। इसके बाद बीजिंग में वायु प्रदूषण नियंत्रण की 20 वर्षों की समीक्षा रिपोर्ट भी प्रकाशित की जाएगी।

जॉइस मसूया ने शुक्रवार को घोषणा करते हुए कहा कि "चीन 2019 के विश्व पर्यावरण दिवस समारोह के लिए एक अच्छा और वैश्विक मेज़बान सिद्ध होगा। इस देश ने घरेलू स्तर पर वायु प्रदूषण से निपटने में बेहतरीन नेतृत्व क्षमता का प्रदर्शन किया है। अब यह दुनिया के बाकी देशों को भी राह दिखा सकता है। वायु प्रदूषण वैश्विक खतरा है, और यह हर किसी को प्रभावित कर रहा है। चीन अब लाखों लोगों की जान बचाने के इस वैश्विक अभियान का नेतृत्व करेगा।"

चीन ने हरित उर्जा के क्षेत्र में बहुत अधिक प्रगति की है, और वह एक वैश्विक पर्यावरणीय लीडर बनकर उभरा है। दुनिया के आधे इलेक्ट्रिक वाहन चीन में हैं और 99 प्रतिशत इलेक्ट्रिक बसें चीन में चलती हैं। विश्व पर्यावरण दिवस 2019 की मेज़बानी करके, चीन की सरकार एक स्वच्छ पर्यावरण की दिशा में अपने नवाचार और देश की प्रगति दर्शा पाएगी।

एशिया और प्रशांत क्षेत्र में वायु प्रदूषण से संबंधित संयुक्त राष्ट्र की एक नई रिपोर्ट के अनुसार, 25 प्रौद्योगिकी नीतियों को लागू करने से वैश्विक स्तर पर कार्बन डाइऑक्साइड उत्सर्जन में 20 प्रतिशत की कमी और मीथेन के उत्सर्जन में 45 प्रतिशत की कमी की जा सकती है, और इससे ग्लोबल वार्मिंग को एक तिहाई डिग्री सेल्सियस तक कम किया जा सकता है।

विश्व पर्यावरण दिवस संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम के नेतृत्व में आयोजित होने वाला वैश्विक स्तर का अभियान है, जो दुनिया भर के हज़ारों संगठनों द्वारा हर साल 5 जून को मनाया जाता है।

1972 में अपनी शुरूआत के बाद से, यह पर्यावरण के क्षेत्र में हर साल आयोजित होने वाला सबसे बड़ा उत्सव बन गया है।

वायु प्रदूषण से जुड़े कुछ तथ्य:

  • दुनिया भर में 92 फीसदी लोगों को सांस लेने के लिए स्वच्छ हवा नसीब नहीं होती है

  • हर साल वैश्विक अर्थव्यवस्था का 50 खरब डॉलर वायु प्रदूषण से जुड़े कल्याणकारी कामों में खर्च होता है

  • ऐसा अनुमान है कि ज़मीनी स्तर के ओज़ोन प्रदूषण से वर्ष 2030 तक फसलों के उत्पादन में 26 फीसदी की कमी आ जाएगी

 

संपादकीय नोट

संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम:

संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम, पर्यावरण के क्षेत्र में काम करने वाली दुनिया की सबसे अग्रणी संस्था है। यह राष्ट्रों और नागरिकों को भविष्य की पीढ़ियों को प्रभावित किए बिना अपने जीवन की गुणवत्ता में सुधार करने के लिए प्रेरित, सूचित और सक्षम करके पर्यावरण की देखभाल करने में भागीदारी के लिए प्रोत्साहित करता है और उनका इस दिशा में नेतृत्व करता है। संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम सरकारों, निजी क्षेत्र, नागरिक समुदायों और दुनिया भर की अन्य संयुक्त राष्ट्र संस्थाओं और अंतर्राष्ट्रीय संगठनों के साथ मिलकर काम करता है।

मीडिया पूछताछ के लिए, कृपया संपर्क करें:

संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम न्‍यूज़ एवं मीडिया, unenvironment-newsdesk[at]un.org

ताज़ा पोस्ट
Story नैरोबी के धुंआ उगलते कचरे के ढेर से स्कूली बच्चों के भविष्य को ख़तरा

केन्या के नैरोबी में कोरोगोचो झुग्गी में चलने वाले स्कूल के मैदान में एक ऊंचे स्थान से दूर तक फैले डंडोरा कचरे के मैदान को देखते हुए फादर मौरिजियो बिनागी कहते हैं, "लोग यहां जी नहीं रह रहे हैं, वे बस जिन्दा हैं।" डंडोरा अफ्रीका के सबसे बड़े अनियोजित कचरे के मैदानों में से एक है।

Story समृद्ध और नाजुक पर्यावरण के साथ फिर से जुड़ने की कोशिश

अंडोरा की पर्यावरण, कृषि और स्थिरता मंत्री, सिल्विया कैल्वो के साथ साक्षात्कार

}